क्या भारत का हिन्दू रहना ज़रूरी है? — शंकर शरण जी का व्याख्यान

 


वक्ता के विषय में: –

shanakr sharan

 

डॉ शरन हिंदी लेखक व शिक्षाविशारद होने के साथ राजनीति विज्ञान के प्राध्यापक भी हैं। आप सोवियत-मार्क्सवादी सिद्धांत एवं कार्यप्रणाली के विशेषज्ञ हैं। आपने कम्युनिज़्म, मार्क्सवाद, सेक्युलरवाद, इस्लामी आतंकवाद, गांधीवाद एवं तुलनात्मक धर्ममीमांसा जैसे विषयों पर हिन्दू दृष्टिकोण से अनेकों पुस्तकें लिखी हैं। आगे

Leave a Reply

%d bloggers like this: